लद्दाख-बॉर्डर से नहीं हटेगी सेना,लंबे समय तक तैनाती की तैयारी

लद्दाख में भारतीय फौज की वापसी के अभी कोई संकेत नहीं हैं क्योंकि सेना यहां लंबे दिनों तक टिक सकती है. चीन सीमा पर भारतीय फौज पिछले कई दिनों से डटी है और आगे भी तैनाती बने रहने के संकेत हैं. पूर्वी लद्दाख में चीनी फौज की घुसपैठ को देखते हुए भारतीय सेना इस पूरे इलाके में अपनी मौजूदगी बनाए रखने पर अडिग है. चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) बिपिन रावत की अध्यक्षता में सेना के शीर्ष अधिकारियों ने संसदीय समिति को यह जानकारी दी है.

संसदीय समिति के साथ बैठक में सैन्य अधिकारियों ने बताया कि इस बात के भी प्रयास चल रहे हैं कि चीन के साथ अविश्वास की खाई को पाटा जाए क्योंकि चीन ने मई महीने से पूर्वी लद्दाख में अपनी फौज खड़ी कर रखी है.

चीनी सेना आर्मर्ड रेजिमेंट और लंबी दूरी के हथियारों से लैस है. CDS रावत की अगुआई में सैन्य अफसरों की टीम ने संसदीय समिति को बताया कि भारतीय फौज LAC पर किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है. सूत्रों के मुताबिक, समिति को बताया गया कि आने वाले दिनों में कड़ाके की ठंड के बावजूद भारतीय सेना लद्दाख इलाके में तैनाती जारी रखने की तैयारी कर रही है.

पूर्वी लद्दाख में अप्रैल-मई से भारत और चीन के बीच विवाद जारी है. चीनी फौज ने पहले शिनजियांग प्रांत के अपने इलाके में जमावड़ा लगाया, उसके बाद LAC पर भारत की और अपनी सेना भेजी गई. भारत ने भी इसका करारा जवाब दिया और हजारों की संख्या में अपनी फौज खड़ी कर दी. हालांकि बाद में दोनों देशों की सेनाओं के पीछे हटने की खबरें आईं लेकिन सीमा पर तनाव अब भी बरकरार है.

चीनी सेना भारत के फिंगर एरिया में डटी हुई है. LAC के आसपास और भी कई इलाके हैं जहां दोनों देशों के बीच तनाव जारी है. कई दौर की बात हो चुकी है लेकिन चीनी सेना पीछे हटने को राजी नहीं है.

इस तनाव को कैसे विराम दिया जाए, इसके लिए दोनों देशों के बीच 5 दौर की कोर कमांडर स्तर की बातचीत हो चुकी है. कई दौर की बातचीत के बावजूद धरातल पर इसका बड़ा असर नहीं दिख रहा है क्योंकि दोनों ओर से सेनाएं एक दूसरे के आगे डटी हुई हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *